Ads

जितने नापसंद का चटके उतनी बीयर...!!! (कार्टून)

>> Thursday, June 17, 2010

22 comments:

Etips-Blog June 17, 2010 at 4:54 AM  

चियर्स ! जितनी टिप्पणीया उतने पैग आपके लिऐ । जनाब कार्टून तो बहुत ही सानदार है । इटिप्स ब्लाग के लिऐ अगर आप एक कार्टून बना देँ तो बङी मेहरबानी होगी ।
etips-blog.blogspot.com

राजकुमार सोनी June 17, 2010 at 4:59 AM  

हा.. हा... हा... ये भी खूब है भाई।
साला पीने वालों को पीने का बहाना चाहिए... गाना यूं ही नहीं लिखा गया है।

narottam June 17, 2010 at 5:03 AM  

बहुत खूब ..आज शाम को तो अपना भी हिस्सा बनता है...अगर हां तो एक पसंद का चटका लगा देता हूं...मंजूर है..?

जी.के. अवधिया June 17, 2010 at 5:30 AM  

अरे, इसमें ब्लोगिंग छोड़ने की क्या जरूरत है? जरूरत है तो नापसन्द के चटके बढ़वाने की!

M VERMA June 17, 2010 at 8:08 AM  

फिर तो ब्लागिंग जारी रखनी चाहिये

kajal June 17, 2010 at 9:48 AM  

नापसंद का चटका लगेगा तो दुखी होकर पीयोगे ...पसंद का चटका लगेगा तो खुश होकर पीयोगे .....वाह रे बेवडो ...

kajal June 17, 2010 at 9:51 AM  

आइसक्रीम और कोल्डड्रिंक भी तो खा सकते हो ख़ुशी और दुःख में

राजीव तनेजा June 17, 2010 at 10:10 AM  

सही है...पीने वालों को तो पीने का बहाना चाहिए

aditi saxena's blog June 17, 2010 at 10:17 AM  

पापा गन्दी बात

aditi saxena's blog June 17, 2010 at 10:19 AM  

पापा गन्दी बात

'उदय' June 17, 2010 at 10:53 AM  

...क्या बात है!!!!

'उदय' June 17, 2010 at 10:54 AM  

... जबरदस्त कार्टून !!!

'उदय' June 17, 2010 at 10:55 AM  

... लगता है बहुत से टिप्पणीकार ... गम हल्का करने चले गये हैं ... इस्लिये ही यह पोस्ट ऊपर नहीं चढ पाई है ...!!!

'उदय' June 17, 2010 at 10:56 AM  

...आज की हिट पोस्ट है .... बहुत बहुत बधाई अजय भाई !!!

'उदय' June 17, 2010 at 10:57 AM  

...अरे भुला गए रहेंव ... जय जोहार!!!!

Udan Tashtari June 17, 2010 at 9:03 PM  

अच्छा है छोड़ दो ब्लॉगिंग और बस, चार बीयर पिओ रोज!

आचार्य उदय June 17, 2010 at 9:15 PM  

...आपका हमारे "औघड आश्रम" में स्वागत है!!!

आचार्य जी June 21, 2010 at 3:19 AM  

सुन्दर कार्टून।

Halke-Fulke June 24, 2010 at 1:35 AM  

kaise ho ajay bhai......
hum aaye nahi our aap kahan nikal gaye....

arvind June 28, 2010 at 2:08 AM  

हा.. हा... हा... .... बहुत बहुत बधाई अजय भाई

Post a Comment

indali

Followers

  © Blogger template Simple n' Sweet by Ourblogtemplates.com 2009इसे अजय दृष्टि के लिये व्यवस्थित किया संजीव तिवारी ने

Back to TOP