Ads

और मगरमच्छ आ गया तो..?.

>> Tuesday, July 21, 2009


7 comments:

महेन्द्र मिश्र July 21, 2009 at 8:43 AM  

चलिए घर बैठे
मछली मिल जायेगी
हा हा हा हा हा

ओम आर्य July 21, 2009 at 8:51 AM  

bahut hi sundar .......satik......badhaee

काजल कुमार Kajal Kumar July 21, 2009 at 9:10 AM  

कौन कहता है सरकारें खाने की व्यवस्था नहीं करतीं

Udan Tashtari July 21, 2009 at 9:55 AM  

बस, अब बचा क्या है मछली पकड़ने के सिवाय?

Anil Pusadkar July 21, 2009 at 10:27 AM  

उसको पड़ोसी के घर का पता दे देंगे।

Mahesh Sinha July 21, 2009 at 11:38 PM  

उसके मुह में सर डाल के देखेंगे :)

Anonymous,  February 6, 2010 at 5:05 AM  

Netaji ko khabar kar denge ki Bhai.....aja....nakali ashun bahane ki kala sikh le .
saGar

Post a Comment

indali

Followers

  © Blogger template Simple n' Sweet by Ourblogtemplates.com 2009इसे अजय दृष्टि के लिये व्यवस्थित किया संजीव तिवारी ने

Back to TOP