Ads

ऐसे में तो बनने से रहा यह लालगढ़ ..?

>> Monday, July 13, 2009


3 comments:

Udan Tashtari July 13, 2009 at 12:09 PM  

हमले तो फिर हो लेंगे, साहित्य रोज थोड़े न रचा जाता है-कर लो कर लो..आराम से.

Anil Pusadkar July 13, 2009 at 10:10 PM  

जिस काम की तन्ख्वाह ले रहे है वो काम तो करेंगे नही

Post a Comment

indali

Followers

  © Blogger template Simple n' Sweet by Ourblogtemplates.com 2009इसे अजय दृष्टि के लिये व्यवस्थित किया संजीव तिवारी ने

Back to TOP