Ads

खेल- भावना को टेस ...!

>> Tuesday, October 20, 2009


3 comments:

Dr. Mahesh Sinha October 20, 2009 at 11:08 AM  

हम खेलें तो जुआ आप खेलें तो शगुन

वन्दना अवस्थी दुबे October 21, 2009 at 2:20 AM  

क्या बात है....इधर लेट-लतीफ़ी कुछ ज़्यादा ही नहीं कर रहे आप?

काजल कुमार Kajal Kumar October 22, 2009 at 10:30 AM  

पद्ठे एकदम सही जा रहे हैं।

Post a Comment

indali

Followers

  © Blogger template Simple n' Sweet by Ourblogtemplates.com 2009इसे अजय दृष्टि के लिये व्यवस्थित किया संजीव तिवारी ने

Back to TOP